Tech & Travel

Follow for more updates

Up Panchayat Elections: Bjp Getting A Tough Fight With Sp, Key Independents – यूपी पंचायत चुनाव : भाजपा को सपा से मिल रही कड़ी टक्कर, चाबी निर्दलियों के हाथ 

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतगणना के दूसरे दिन देर रात तक राज्य निर्वाचन आयोग ने 181 जिला पंचायत सदस्य, 38317 ग्राम प्रधान, 55926 क्षेत्र पंचायत सदस्यों व 232612 ग्राम पंचायत सदस्यों के चुनाव परिणाम की घोषणा की। जिला पंचायत सदस्य का चुनाव दलों ने प्रत्याशियों की सूची जारी कर लड़ा है।

अब तक घोषित नतीजों व अनंतिम रुझानों में सत्ताधारी दल भाजपा को मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी से कड़ी टक्कर मिल रही है। निर्दलियों व बागियों ने भी बड़ी संख्या में कब्जा जमाया है। तमाम जिलों में जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव की चाबी निर्दलियों व बागियों के हाथ रहने के आसार हैं। जिला पंचायत चुनाव में राम की नगरी अयोध्या में भाजपा को तगड़ा झटका लगा है। सपा ने यहां की 40 में से 24 सीटें जीत ली हैं। पूर्व मंत्री आनंदसेन यादव की पत्नी इंदुसेन यादव चुनाव जीत गई हैं। वह अध्यक्ष पद की दावेदार मानी जा रही हैं।

लखनऊ में जिला पंचायत की कुल 25 सीटों में से दो पर बसपा, आठ पर सपा और तीन पर भाजपा आगे है। बाराबंकी में जिला पंचायत सदस्य पद की 57 सीटों में से घोषित नतीजों में 10-10 सीट सपा व भाजपा जीत चुकी हैं। यहां कई सीटों पर निर्दलियों ने बाजी मारी है। अंबेडकरनगर में बसपा नेता साधू वर्मा ने चौथी बार जिला पंचायत सदस्य पद पर कब्जा जमाया है। पार्टी के बड़े नेताओं में शामिल साधु को इस बार बसपा ने टिकट नहीं दिया तो वे निर्दलीय चुनाव मैदान में कूद पड़े।
 
बहराइच में  30 सीटों के रुझान में बीजेपी समर्थित 20 प्रत्याशियों की जीत हो सकती है। सपा को उम्मीद के हिसाब से सफलता नजर नहीं आ रही है। बीजेपी के बलहा  विधायक प्रतिनिधि आलोक जिंदल को चौथे स्थान पर संतोष करना पड़ा है। पूर्व सांसद दद्दन मिश्रा के भतीजे समय प्रसाद मिश्रा व पूर्व ब्लाक प्रमुख बीना राज मिश्रा ने जीत हासिल की है। उधर सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष आनंद यादव, पूर्व जिलाध्यक्ष लक्ष्मी यादव की मां मुन्नी देवी,  सपा के पूर्व विधायक शब्बीर अहमद के पुत्र आजम अंशू और बेटी इरम शब्बीर ने भी जीत हासिल की है। 

रायबरेली में एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह की अनुजवधू सुमन सिंह हरचंदपुर तृतीय से चुनाव हार गई हैं। सपा नेता आशीष चौधरी की मां शिवदेवी ने सबसे ज्यादा वोटों से शिकस्त देकर सभी को चौंका दिया। महराजगंज प्रथम से पूर्व विधायक रामलाल अकेला के बेटे विक्रांत अकेला ने पूर्व विधायक एवं भाजपा उम्मीदवार राजाराम त्यागी को हरा दिया है। यहां सपा ने 12 सीटों पर कब्जा जमाया है। भाजपा और कांग्रेस को नौ-नौ सीटों से ही संतोष करना पड़ा है। 

गोंडा में भाजपा व सपा ने करीब-करीब सभी सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे थे। जनता ने दलों की मनमानी और जबरन प्रत्याशी थोपने की रणनीति का करारा जवाब दिया है। सपा जिलाध्यक्ष आनंद स्वरूप उर्फ पप्पू यादव तो अपने गृह ब्लॉक में ही घिर गए। ब्लॉक की चार सीटों में एक भी पार्टी को नही दिला सके। भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष अकबाल बहादुर तिवारी की पत्नी विमला देवी चुनाव हार गईं हैं। 

गोंडा के सांसद कीर्तिवर्धन सिंह उर्फ राजा भैय्या को भी तगड़ा झटका लगा है। मनकापुर चतुर्थ से तो उन्होंने पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष व क्षेत्रीय उपाध्यक्ष पीयूष मिश्र को प्रत्याशी बनवाया था लेकिन जिता नही सके। कटरा बाजार में भाजपा के जिला उपाध्यक्ष अर्जुन प्रसाद तिवारी भी सीट नहीं बचा सके।  सदर विधानसभा की आठ जिला पंचायत सीटों में सपा के खाते में एक ही सीट जा सकी है। यहां कई सीटों पर निर्दलियों ने कब्जा जमाया है।

सुल्तानपुर निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष एवं भाजपा समर्थित प्रत्याशी ऊषा सिंह ने लगातार दूसरी बार जीत दर्ज की है। यहां  आम आदमी पार्टी ने दो सीटों पर जीत दर्ज की है। 

अमेठी जिले में भी नतीजे चर्चा में हैं। जेल में निरुद्ध पूर्व कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति के परिवारीजनों पर क्षेत्र की जनता ने भरोसा जताया है। मंत्री के भाई रामशंकर प्रजापति ग्राम पंचायत परसावां से ग्राम प्रधान का चुनाव जीत गए हैं। पूर्व मंत्री के भतीजे अरुण प्रजापति की पत्नी रेनू प्रजापति वार्ड नंबर 27 से जिला पंचायत सदस्य के लिए निर्दलीय चुनाव लड़ीं और सात हजार से अधिक मतों से जीत दर्ज हासिल करने में कामयाब रहीं।

बरेली में जिला पंचायत सदस्य की 60 सीटों में से 41 के नतीजे घोषित हुए। इनमें से सपा को 18, भाजपा को 12 व बसपा को आठ सीट मिली है। पीलीभीत की 34 सीटों में से  9 के नतीजे घोषित हुए हैं। जिनमें सपा 4, भाजपा तीन, बसपा व आप ने एक-एक सीट जीतने में सफलता हासिल की है। बदायूं की कुल 51 सीटों में से घोषित नतीजों में भाजपा को 8 व सपा को 6 व अन्य को तीन सीट मिली है।

Source link