Tech & Travel

Follow for more updates

Supreme Court Constituted A National Task Force Assess, Recommend The Need And Distribution Of Oxygen For The Entire Country – बड़ा फैसला: सुप्रीम कोर्ट ने गठित की राष्ट्रीय टास्क फोर्स, ऑक्सीजन के वितरण-मांग पर रखेगी नजर

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Published by: गौरव पाण्डेय
Updated Sat, 08 May 2021 05:42 PM IST

सार

सर्वोच्च न्यायालय ने शनिवार को पूरे देश में मेडिकल ऑक्सीन की उपलब्धता और वितरण के आंकलन के लिए एक 12 सदस्यीय टास्क फोर्स का गठन किया है। यह टास्क फोर्स वैज्ञानिक, तार्किक और समानता के आधार पर आंकलन करेगी और अपनी सिफारिश अदालत को सौंपेगी। 

ख़बर सुनें

देश इस समय कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर से जूझ रहा है। संक्रमण की तेज दर के साथ देश में ऑक्सीजन की कमी ने स्थिति और गंभीर कर दी है। देश में ऑक्सीजन की मांग और वितरण को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को बड़ा फैसला लिया। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने अपने आदेश में एक सदस्यीय राष्ट्रीय टास्क फोर्स गठित करने का आदेश दिया है। यह टास्क फोर्स पूरे देश में ऑक्सीजन की जरूरत और वितरण का आंकलन और सिफारिश करने का काम करेगी।

बता दें कि यह टास्क फोर्स कोविड के इलाज के लिए जरूरी दवाओं की समान व उचित उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए सुझाव भी देगी और महामारी के चलते पैदा हुए अन्य मुद्दों के समाधान पर भी सुझाव देगी। सूत्रों के अनुसार सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों ने टास्क फोर्स के सभी सदस्यों से व्यक्तिगत रूप से बात की है। माना जा रहा है कि एक सप्ताह के अंदर यह टास्क फोर्स काम शुरू कर देगी। टास्क फोर्स अपनी रिपोर्ट केंद्र औक अदलत के पास जमा करेगी लेकिन इसकी सिफारिशें सीधे सुप्रीम कोर्ट को भेजी जाएंगी।
 

जानकारी के अुसार शीर्ष अदालत ने केंद्र सरार को निर्देश दिया है कि वह जरूरी सहायता उपलब्ध कराए और कहा है कि सभी हिस्सेदार (राज्य सरकार से लेकर अस्पतालों तक) हर हालत में सहयोग करें। इस टास्क फोर्स की शुरुआती अवधि छह महीने निर्धारित की गई है। इसकी अगुवाई पश्चिम बंगाल यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज के पूर्व वाइस चांसलर डॉ. भाबातोष बिस्वास करेंगे। उनके साथ इस टास्क फोर्स में गुरुग्राम में स्थित मेदांता अस्पताल के चेयरपर्सन और प्रबंध निदेशक डॉ. नरेश त्रेहान को भी जगह दी गई है। 

  1. डॉ. भाबतोष बिस्वास, पूर्व वाइस चांसलर, पश्चिम बंगाल यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज।
  2. डॉ. देवेंदर सिंह राणा, चेयरपर्सन, बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट, सर गंगाराम अस्पताल, दिल्ली।
  3. डॉ. देवी प्रसाद शेट्टी, चेयरपर्सन और एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर, नारायणा हेल्थकेयर, बंगलूरू।
  4. डॉ. गगनदीप कांग, प्रोफेसर, क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज, वेल्लोर, तमिलनाडु।
  5. डॉ. जेवी पीटर, डायरेक्टर, क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज, सवेल्लोर, तमिलनाडु।
  6. डॉ. नरेश त्रेहान, चेयरपर्सन और मैनेजिंग डायरेक्टर, मेदांता हॉस्पिटल एंड हार्ट इंस्टीट्यूट, गुरुग्राम।
  7. डॉ. राहुल पंडित, डायरेक्टर, क्रिकिकल केयर मेडिसिन एंड आईसीयू, फोर्टिस हॉस्पिटल, मुलुंड एवं कल्याण (महाराष्ट्र)।
  8. डॉ. डॉ. सौमित्र रावत, चेयरमैन एवं हेड, डिपार्टमेंड ऑफ सर्जिकल गैस्ट्रोएन्टरोलॉजी एंड लिवर ट्रांसप्लांट, सर गंगाराम अस्पताल, दिल्ली।
  9. डॉ. शिव कुमार सरीन, सीनियर प्रोफेसर एंड हेड ऑफ डिपार्टमेंट ऑफ हेपटोलॉजी, डायरेक्टर, इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बिलियरी साइंस, दिल्ली।
  10. डॉ. झरीर एफ उदवादिया, कन्सल्टेंट चेस्ट फिजीशियन, हिंदुजा हॉस्पिटल, ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल एंड पारसी जनरल हॉस्पिटल, मुंबई।
  11. केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के सचिव।
  12. टास्क फोर्स का कन्वेनर, जो एक सदस्य भी होगा, केंद्र सरकार के लिए टास्क फोर्स का कैबिनेट सचिव होगा।

विस्तार

देश इस समय कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर से जूझ रहा है। संक्रमण की तेज दर के साथ देश में ऑक्सीजन की कमी ने स्थिति और गंभीर कर दी है। देश में ऑक्सीजन की मांग और वितरण को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को बड़ा फैसला लिया। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने अपने आदेश में एक सदस्यीय राष्ट्रीय टास्क फोर्स गठित करने का आदेश दिया है। यह टास्क फोर्स पूरे देश में ऑक्सीजन की जरूरत और वितरण का आंकलन और सिफारिश करने का काम करेगी।

बता दें कि यह टास्क फोर्स कोविड के इलाज के लिए जरूरी दवाओं की समान व उचित उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए सुझाव भी देगी और महामारी के चलते पैदा हुए अन्य मुद्दों के समाधान पर भी सुझाव देगी। सूत्रों के अनुसार सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों ने टास्क फोर्स के सभी सदस्यों से व्यक्तिगत रूप से बात की है। माना जा रहा है कि एक सप्ताह के अंदर यह टास्क फोर्स काम शुरू कर देगी। टास्क फोर्स अपनी रिपोर्ट केंद्र औक अदलत के पास जमा करेगी लेकिन इसकी सिफारिशें सीधे सुप्रीम कोर्ट को भेजी जाएंगी।

 

जानकारी के अुसार शीर्ष अदालत ने केंद्र सरार को निर्देश दिया है कि वह जरूरी सहायता उपलब्ध कराए और कहा है कि सभी हिस्सेदार (राज्य सरकार से लेकर अस्पतालों तक) हर हालत में सहयोग करें। इस टास्क फोर्स की शुरुआती अवधि छह महीने निर्धारित की गई है। इसकी अगुवाई पश्चिम बंगाल यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज के पूर्व वाइस चांसलर डॉ. भाबातोष बिस्वास करेंगे। उनके साथ इस टास्क फोर्स में गुरुग्राम में स्थित मेदांता अस्पताल के चेयरपर्सन और प्रबंध निदेशक डॉ. नरेश त्रेहान को भी जगह दी गई है। 


आगे पढ़ें

जानिए कौन कौन है इस टास्क फोर्स का हिस्सा

Source link