Tech & Travel

Follow for more updates

Nirma Arm Nuvoco Vistas Filed Its Drhp With Sebi To Raise Rs 5000 Crore Through Initial Public Offer Ipo – निवेश का मौका: निरमा समूह की सीमेंट कंपनी लाएगी Ipo, 5000 करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Published by: ‌डिंपल अलावाधी
Updated Fri, 07 May 2021 11:33 AM IST

सार

निरमा समूह की कंपनी नुवोको विस्टाज कॉरपोरेशन लिमिटेड ने शेयर की प्रारंभिक सार्वजिनक बिक्री (आईपीओ) के जरिए 5,000 करोड़ रुपये जुटाने की अनुमति के लिए नियामक सेबी के पास डीआरएचपी फाइल किया है।

ख़बर सुनें

साल 2020 में आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) बाजार गुलजार रहा। तरलता की बेहतर स्थिति तथा निवेशकों की उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया के चलते कंपनियों ने पिछले साल आईपीओ के जरिए करोड़ों रुपये जुटाए हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि 2021 में भी आईपीओ बाजार मजबूत रहने की उम्मीद है। आईपीओ बाजार में हलचल अभी खत्म नहीं हुई है। कंपनियां इस साल भी आईपीओ लाने के लिए कतार में खड़ी हैं। निरमा समूह की कंपनी नुवोको विस्टाज कॉरपोरेशन लिमिटेड ने शेयर की प्रारंभिक सार्वजिनक बिक्री (आईपीओ) के जरिए 5,000 करोड़ रुपये जुटाने की अनुमति के लिए नियामक सेबी के पास डीआरएचपी फाइल किया है।

1,500 करोड़ के नए शेयर जारी करेगी कंपनी
मसौदे के अनुसार, कंपनी प्राथमिक बाजार में इस निर्गम (आईपीओ) में 1,500 करोड़ रुपये के नए शेयर जारी करेगी। इसके साथ ही प्रवर्तक कंपनी नियोगी एंटरप्राइज द्वारा शेयर बाजार 3,500 करोड़ रुपये के शेयरों की बिक्री का प्रस्ताव शामिल है।

सीमेंट निर्माता कंपनी है नुवोको 
नए शेयरों से होने वाली आय का इस्तेमाल कंपनी द्वारा लिए गए कुछ ऋण को लौटाने और साथ ही सामान्य कॉरपोरेट उद्देश्य के लिए किया जाएगा। नुवोको विस्टाज सीमेंट निर्माता कंपनी है और उसकी कुल उत्पादन क्षमता 2.232 करोड़ टन सालाना है। कंपनी के 11 सीमेंट संयंत्रों में पांच एकीकृत इकाइयां, पांच ग्राइंडिंग इकाइयां और एक ब्लेडिंग इकाई शामिल हैं।

क्या है आईपीओ?
जब भी कोई कंपनी या सरकार पहली बार आम लोगों के सामने कुछ शेयर बेचने का प्रस्ताव रखती है तो इस प्रक्रिया को प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) कहा जाता है। मतलब एलआईसी के आईपीओ को सरकार आम लोगों के लिए बाजार में रखेगी। इसके बाद लोग एलआईसी में शेयर के जरिए हिस्सेदारी खरीद सकेंगे।

आईपीओ में पैसा लगाकर निवेशक अच्छे पैसे कमा सकते हैं। पिछले साल कंपनियों ने प्राइमरी मार्केट से 31,000 करोड़ रुपये जुटाए। कुल 16 आईपीओ लॉन्च हुए, जिनमें से 15 की लॉन्चिंग दूसरी छमाही में हुई थी। 2019 के पूरे साल में 16 आईपीओ के जरिए 12,362 करोड़ रुपये जुटाए गए थे। 2018 में 24 कंपनियों ने आईपीओ से 30,959 करोड़ रुपये जुटाए थे। दरअसल, कोरोना वायरस महामारी घरेलू शेयर बाजार उबरने लगे हैं। इसे देखते हुए कंपनियां लगातार आईपीओ लॉन्च कर रही हैं। 

विस्तार

साल 2020 में आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) बाजार गुलजार रहा। तरलता की बेहतर स्थिति तथा निवेशकों की उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया के चलते कंपनियों ने पिछले साल आईपीओ के जरिए करोड़ों रुपये जुटाए हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि 2021 में भी आईपीओ बाजार मजबूत रहने की उम्मीद है। आईपीओ बाजार में हलचल अभी खत्म नहीं हुई है। कंपनियां इस साल भी आईपीओ लाने के लिए कतार में खड़ी हैं। निरमा समूह की कंपनी नुवोको विस्टाज कॉरपोरेशन लिमिटेड ने शेयर की प्रारंभिक सार्वजिनक बिक्री (आईपीओ) के जरिए 5,000 करोड़ रुपये जुटाने की अनुमति के लिए नियामक सेबी के पास डीआरएचपी फाइल किया है।

1,500 करोड़ के नए शेयर जारी करेगी कंपनी

मसौदे के अनुसार, कंपनी प्राथमिक बाजार में इस निर्गम (आईपीओ) में 1,500 करोड़ रुपये के नए शेयर जारी करेगी। इसके साथ ही प्रवर्तक कंपनी नियोगी एंटरप्राइज द्वारा शेयर बाजार 3,500 करोड़ रुपये के शेयरों की बिक्री का प्रस्ताव शामिल है।

सीमेंट निर्माता कंपनी है नुवोको 

नए शेयरों से होने वाली आय का इस्तेमाल कंपनी द्वारा लिए गए कुछ ऋण को लौटाने और साथ ही सामान्य कॉरपोरेट उद्देश्य के लिए किया जाएगा। नुवोको विस्टाज सीमेंट निर्माता कंपनी है और उसकी कुल उत्पादन क्षमता 2.232 करोड़ टन सालाना है। कंपनी के 11 सीमेंट संयंत्रों में पांच एकीकृत इकाइयां, पांच ग्राइंडिंग इकाइयां और एक ब्लेडिंग इकाई शामिल हैं।

क्या है आईपीओ?

जब भी कोई कंपनी या सरकार पहली बार आम लोगों के सामने कुछ शेयर बेचने का प्रस्ताव रखती है तो इस प्रक्रिया को प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) कहा जाता है। मतलब एलआईसी के आईपीओ को सरकार आम लोगों के लिए बाजार में रखेगी। इसके बाद लोग एलआईसी में शेयर के जरिए हिस्सेदारी खरीद सकेंगे।

आईपीओ में पैसा लगाकर निवेशक अच्छे पैसे कमा सकते हैं। पिछले साल कंपनियों ने प्राइमरी मार्केट से 31,000 करोड़ रुपये जुटाए। कुल 16 आईपीओ लॉन्च हुए, जिनमें से 15 की लॉन्चिंग दूसरी छमाही में हुई थी। 2019 के पूरे साल में 16 आईपीओ के जरिए 12,362 करोड़ रुपये जुटाए गए थे। 2018 में 24 कंपनियों ने आईपीओ से 30,959 करोड़ रुपये जुटाए थे। दरअसल, कोरोना वायरस महामारी घरेलू शेयर बाजार उबरने लगे हैं। इसे देखते हुए कंपनियां लगातार आईपीओ लॉन्च कर रही हैं। 

Source link