Tech & Travel

Follow for more updates

Mostly Exit Polls Fail To Gauge Tmc Victory Margin – बंगाल परिणाम: अधिकतर एग्जिट पोल तृणमूल के जीत के अंतर का अंदाजा लगाने में हुए असफल

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी
– फोटो : ANI

ख़बर सुनें

तृणमूल कांग्रेस ने रविवार को पश्चिम बंगाल में निर्णायक जीत दर्ज की लेकिन अधिकतर एग्जिट पोल इस जीत का अंदाजा लगाने में असफल रहे क्योंकि कल तक वे भाजपा एवं ममता बनर्जी की पार्टी के बीच कांटे की टक्कर का पूर्वानुमान लगा रहे थे।

एग्जिट पोल तृणमूल कांग्रेस की इस भारी जीत का भी अंदाजा लगाने में नाकामयाब रहे। हालांकि, तमिलनाडु में द्रमुक नीत गठबंधन की जीत, असम में भाजपा,केरल में यूडीएफ की वापसी और पुडुचेरी में राजग की सरकार बनने की अधिकतर एग्जिट पोल की भविष्यवाणी सही साबित हुई।

पश्चिम बंगाल में टुडे चाणक्य द्वारा किए गए एग्जिट पोल नतीजों के काफी करीब रहे। उसने तृणमूल को 180 सीटें आने का अनुमान लगाया था जबकि 11 सीटों की वृद्धि-कमी की त्रृटि होने की बात की थी। वहीं चाणक्य ने भाजपा को 11 सीटे कम ज्यादा की त्रृटि के साथ 108 सीटें दी थी।

इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया एग्जिट पोल ने कांटे की टक्कर होने की भविष्यवाणी की थी और भाजपा को 134 से 160 सीटें जबकि तृणमूल को 130-156 सीटें आने का अनुमान लगाया था।

रिपब्लिक-सीएनएक्स पोल ने भाजपा को हल्की बढ़त दिखाई थी और 138-148 सीटें आने का अनुमान लगाया था जबकि तृणमूल के खाते में 128 से 138 सीटें जाने की भविष्यवाणी की थी।

हालांकि, टाइम्स नाउ ने 158 सीटों के साथ तृणमूल को स्पष्ट बहुमत आने का अनुमान लगाया था जबकि भाजपा को 115 सीटें आने की भविष्यवाणी की थी।

इसके उलट ‘जन की बात’ एग्जिट पोल ने 162से 185 सीटों के साथ बंगाल में भाजपा की बहुमत से सरकार बनने का अनुमान लगाया था जबकि तृणमूल के खाते में महज 104 से 121 सीटे आने की बात की थी।

गौरतलब है कि वर्ष 2016 में हुए पश्चिम बंगाल चुनाव में तृणमूल को 211 सीटें मिली थी जबकि भाजपा ने तीन सीटों पर जीत दर्ज की थी।

विस्तार

तृणमूल कांग्रेस ने रविवार को पश्चिम बंगाल में निर्णायक जीत दर्ज की लेकिन अधिकतर एग्जिट पोल इस जीत का अंदाजा लगाने में असफल रहे क्योंकि कल तक वे भाजपा एवं ममता बनर्जी की पार्टी के बीच कांटे की टक्कर का पूर्वानुमान लगा रहे थे।

एग्जिट पोल तृणमूल कांग्रेस की इस भारी जीत का भी अंदाजा लगाने में नाकामयाब रहे। हालांकि, तमिलनाडु में द्रमुक नीत गठबंधन की जीत, असम में भाजपा,केरल में यूडीएफ की वापसी और पुडुचेरी में राजग की सरकार बनने की अधिकतर एग्जिट पोल की भविष्यवाणी सही साबित हुई।

पश्चिम बंगाल में टुडे चाणक्य द्वारा किए गए एग्जिट पोल नतीजों के काफी करीब रहे। उसने तृणमूल को 180 सीटें आने का अनुमान लगाया था जबकि 11 सीटों की वृद्धि-कमी की त्रृटि होने की बात की थी। वहीं चाणक्य ने भाजपा को 11 सीटे कम ज्यादा की त्रृटि के साथ 108 सीटें दी थी।

इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया एग्जिट पोल ने कांटे की टक्कर होने की भविष्यवाणी की थी और भाजपा को 134 से 160 सीटें जबकि तृणमूल को 130-156 सीटें आने का अनुमान लगाया था।

रिपब्लिक-सीएनएक्स पोल ने भाजपा को हल्की बढ़त दिखाई थी और 138-148 सीटें आने का अनुमान लगाया था जबकि तृणमूल के खाते में 128 से 138 सीटें जाने की भविष्यवाणी की थी।

हालांकि, टाइम्स नाउ ने 158 सीटों के साथ तृणमूल को स्पष्ट बहुमत आने का अनुमान लगाया था जबकि भाजपा को 115 सीटें आने की भविष्यवाणी की थी।

इसके उलट ‘जन की बात’ एग्जिट पोल ने 162से 185 सीटों के साथ बंगाल में भाजपा की बहुमत से सरकार बनने का अनुमान लगाया था जबकि तृणमूल के खाते में महज 104 से 121 सीटे आने की बात की थी।

गौरतलब है कि वर्ष 2016 में हुए पश्चिम बंगाल चुनाव में तृणमूल को 211 सीटें मिली थी जबकि भाजपा ने तीन सीटों पर जीत दर्ज की थी।

Source link