Tech & Travel

Follow for more updates

Haryana Received Vaccine For Vaccination Of 18-45 Age Group  – अच्छी खबर: हरियाणा को 18+ के टीकाकरण के लिए वैक्सीन मिली, जल्द शुरू होगा वैक्सीनेशन 

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़
Published by: निवेदिता वर्मा
Updated Sat, 01 May 2021 02:47 PM IST

सार

हरियाणा को कुल 66 लाख वैक्सीन आवंटित की गई हैं। ये वैक्सीन अलग अलग फेज में मिलेंगी।  

corona vaccine

corona vaccine
– फोटो : सोशल मीडिया

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

विस्तार

टीके की कमी की खबरों के बीच हरियाणा को शनिवार को अच्छी खबर मिली। हरियाणा को 18+ के वैक्सीनेशन के लिए कोरोना वैक्सीन की पहली आपूर्ति मिल गई। इस चरण में 18 से 44 साल के लोगों को वैक्सीन लगनी है। हरियाणा को कुल 66 लाख वैक्सीन आवंटित की गई हैं। ये वैक्सीन अलग-अलग फेज में मिलेंगी। पहले चरण की वैक्सीन अलग-अलग जिलों में भेज दी गई है। ऐसे में हरियाणा में वैक्सीनेशन कार्यक्रम का अगला चरण जल्द शुरू हो जाएगा।

वहीं हरियाणा का ऑक्सीजन कोटा 25 मीट्रिक टन और बढ़ गया है। अब हरियाणा को केंद्र से 257 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिलेगी। लिंडे सेलेकी से 25 मीट्रिक टन ऑक्सीजन और मिलेगी। ओडिशा के लिए भेजे गए टैंकर भी शनिवार को  और ऑक्सीजन लेकर हरियाणा पहुंच रहे हैं।

हरियाणा में 18 से 44 साल तक के लोगों के लिए शुरू हो रहे टीकाकरण के मद्देनजर प्रदेश सरकार ने कोविड वैक्सीन की 50 लाख डोज का ऑर्डर दिया था। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बताया कि 50 लाख टीके 1 महीने के लिए पर्याप्त हैं। अभी 1 लाख टीके प्रतिदिन लगाने की क्षमता है। नए पंजीकरण के हिसाब से इसे डेढ़-दो लाख तक बढ़ा सकते हैं। सीएचसी, पीएचसी और स्वयं सेवी संस्थाओं के अस्पताल में भी टीकाकरण 1 मई से शुरू किया जाएगा।

लॉकडाउन नहीं पर सख्ती करेंगे

मुख्यमंत्री ने फिर दोहराया कि लॉकडाउन नहीं करेंगे। गतिविधियों को पूरी तरह रोकने से पूरा आर्थिक चक्र भी रुक जाता है। गैर जरूरी गतिविधियों को शाम 6 बजे के बाद पूरी तरह बंद कर आगे बढ़ेंगे। कोरोना की स्थितियां अगर भविष्य में नहीं सुधरती हैं तो नई व्यवस्थाएं बनाएंगे, लेकिन उद्योगों को बंद नहीं करेंगे। ऑक्सीजन सिलिंडर का भंडारण घरों में अनावश्यक रूप से न करें। उन्होंने कहा कि कोविड के संकट में निराशा का वातावरण न बनने दें, उत्साह का माहौल बनाये रखें। यह मनुष्य की लाई नहीं, बल्कि प्राकृतिक आपदा है।

Source link