Tech & Travel

Follow for more updates

Delhi Police Crime Branch Raids At Three Cities Of Uttarakhand Factories Manufacturing Fake Remdesivir Injection Kingpin And 4 Other Arrested All Detail – उत्तराखंड: दिल्ली पुलिस ने पकड़ी नकली रेमडेसिविर बनाने वाली फैक्टरी, सरगना समेत पांच गिरफ्तार

अमर उजाला नेटवर्क, देहरादून
Published by: पूजा त्रिपाठी
Updated Fri, 30 Apr 2021 08:51 AM IST

सार

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने नकली रेमडेसिविर बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए गिरोह के सरगना समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।

ख़बर सुनें

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने नकली रेमडेसिविर बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए गिरोह के सरगना समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। यह गिरोह उत्तराखंड के हरिद्वार, रुड़की और कोटद्वार में अवैध फैक्टरियोें में नकली रेमडेसिविर का उत्पादन करता है।
 

डीएम के कहने पर भी नहीं मिली मरीज को रेमडेसिविर

रेमडेसिविर की पर्याप्त उपलब्धता को लेकर सरकार और प्रशासन भले ही लाख दावे करे। लेकिन, सच्चाई यही है कि जरूरतमंद मरीजों को यह आसानी से नहीं मिल पा रही है। ऐसे ही एक मामले में देहरादून के सुभारती अस्पताल में भर्ती मरीज को डीएम के कहने के बाद भी इंजेक्शन नहीं मिल पाया। परिजनों ने बमुश्किल दूसरी जगह से इंजेक्शन का इंतजाम किया।

सुभारती अस्पताल में भर्ती मरीज को 27 अप्रैल को डॉक्टर ने रेमडिसिवर दवा लिखी। उन्होंने कहा कि अस्पताल में दवा उपलब्ध नहीं है, परिजनों को बाहर से दवा का इंतजाम करना होगा। परिजनों के अनुसार, उस दिन कई जगह चक्कर काटने के बावजूद उन्हें दवा नहीं मिल पाई। अगले दिन किसी तरह दो इंजेक्शन का इंतजाम हुआ। परिजन इंजेक्शन के लिए भटकते रहे, लेकिन उन्हें नहीं मिल पाया। इस पर उन्होंने अमर उजाला से संपर्क कर मदद मांगी।

हमारे संवाददाता ने जिलाधिकारी डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव को मामले की जानकारी दी। इस पर डीएम ने बताया कि सुभारती अस्पताल को इंजेक्शन उपलब्ध कराए गए हैं। हमने उन्हें बताया कि उसके बावजूद अस्पताल मरीज को बाहर से इंजेक्शन लाने के लिए कह रहे हैं। इस पर डीएम ने जल्द व्यवस्था कराने का आश्वासन दिया। हालांकि देर शाम तक प्रशासन की ओर से इंजेक्शन का कोई इंतजाम नहीं हो सका। परिजनों ने अपने प्रयासों से दूसरी जगह से इंजेक्शन जुटाए।

मामले की जानकारी मिलने के बाद मैंने इंजेक्शन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए थे। अस्पताल प्रबंधन की ओर से बताया गया कि वे मरीज के लिए व्यवस्था कर रहे हैं। इस पर मैंने तभी व्यवस्था होने का मैसेज भेजा था। अब शाम को पता चल रहा है कि अस्पताल ने इंजेक्शन नहीं दिया।
– डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव, जिलाधिकारी

विस्तार

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने नकली रेमडेसिविर बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए गिरोह के सरगना समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। यह गिरोह उत्तराखंड के हरिद्वार, रुड़की और कोटद्वार में अवैध फैक्टरियोें में नकली रेमडेसिविर का उत्पादन करता है।

 

डीएम के कहने पर भी नहीं मिली मरीज को रेमडेसिविर

रेमडेसिविर की पर्याप्त उपलब्धता को लेकर सरकार और प्रशासन भले ही लाख दावे करे। लेकिन, सच्चाई यही है कि जरूरतमंद मरीजों को यह आसानी से नहीं मिल पा रही है। ऐसे ही एक मामले में देहरादून के सुभारती अस्पताल में भर्ती मरीज को डीएम के कहने के बाद भी इंजेक्शन नहीं मिल पाया। परिजनों ने बमुश्किल दूसरी जगह से इंजेक्शन का इंतजाम किया।

सुभारती अस्पताल में भर्ती मरीज को 27 अप्रैल को डॉक्टर ने रेमडिसिवर दवा लिखी। उन्होंने कहा कि अस्पताल में दवा उपलब्ध नहीं है, परिजनों को बाहर से दवा का इंतजाम करना होगा। परिजनों के अनुसार, उस दिन कई जगह चक्कर काटने के बावजूद उन्हें दवा नहीं मिल पाई। अगले दिन किसी तरह दो इंजेक्शन का इंतजाम हुआ। परिजन इंजेक्शन के लिए भटकते रहे, लेकिन उन्हें नहीं मिल पाया। इस पर उन्होंने अमर उजाला से संपर्क कर मदद मांगी।

हमारे संवाददाता ने जिलाधिकारी डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव को मामले की जानकारी दी। इस पर डीएम ने बताया कि सुभारती अस्पताल को इंजेक्शन उपलब्ध कराए गए हैं। हमने उन्हें बताया कि उसके बावजूद अस्पताल मरीज को बाहर से इंजेक्शन लाने के लिए कह रहे हैं। इस पर डीएम ने जल्द व्यवस्था कराने का आश्वासन दिया। हालांकि देर शाम तक प्रशासन की ओर से इंजेक्शन का कोई इंतजाम नहीं हो सका। परिजनों ने अपने प्रयासों से दूसरी जगह से इंजेक्शन जुटाए।

मामले की जानकारी मिलने के बाद मैंने इंजेक्शन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए थे। अस्पताल प्रबंधन की ओर से बताया गया कि वे मरीज के लिए व्यवस्था कर रहे हैं। इस पर मैंने तभी व्यवस्था होने का मैसेज भेजा था। अब शाम को पता चल रहा है कि अस्पताल ने इंजेक्शन नहीं दिया।

– डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव, जिलाधिकारी

Source link