Tech & Travel

Follow for more updates

Delhi में Oxygen की किल्लत पर हाई कोर्ट सख्त, कंपनियों से किया जवाब-तलब| Hindi News, देश

नई दिल्ली: दिल्ली (Delhi) में बेड और ऑक्सीजन की कमी पर दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) में शुक्रवार को भी सुनवाई हुई. मैक्स अस्पताल ने कोर्ट से कहा कि उनके पास ऑक्सीजन (Oxygen) बहुत कम बची है. वहीं Inox कंपनी ने हाई कोर्ट से कहा कि वो मैक्स को ऑक्सीजन दे रहे हैं. 

हाई कोर्ट (Delhi High Court) ने गोयल गैस कंपनी से पूछा कि आप बत्रा अस्पताल को ऑक्सीजन क्यों नहीं दे रहे हैं. गोयल गैसेस ने कहा कि वे 50 फीसदी ऑक्सीजन यूपी को दे रहे हैं. इसके बाद 45 MT दूसरे अस्पताल को रहे हैं. वहीं बत्रा अस्पताल को उसके कोटे के अनुसार ऑक्सीजन (Oxygen) दी जा रही है. 

‘हमें पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल रही ऑक्सीजन’

इससे पहले बत्रा अस्पताल ने हाई कोर्ट (Delhi High Court) से कहा था कि inox की सप्लाई अभी तक नही आई है और उन्हें ऑक्सीजन की कमी होगी. बत्रा अस्पताल ने कोर्ट से यह भी कहा कि उन्हें कल ऑक्सीजन मिला था. लेकिन उसकी सप्लाई काफी कम थी, जबकि उन्होंने सेकंड वेव आने से पहले ही ऑक्सीजन की डिमांड कर रखी थी. हाई कोर्ट ने inox कंपनी को आदेश दिया कि शाम तक आप बत्रा अस्पताल को ऑक्सीजन (Oxygen) देंगे. 

‘अब सभी को तय मात्रा में ऑक्सीजन मिलेगी’

Inox ने हाई कोर्ट से कहा कि वे पहले ही 2MT ऑक्सीजन बत्रा अस्पताल को दे चुकी है. मैक्स अस्पताल को 24 MT दिया है जबकि 31MT देना था. अब दिल्ली सरकार के अधिकारी सही तरीके से allocat कर रहे है. लिहाजा, आज तय नंबर के मुताबिक ऑक्सीजन दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें- अब 60 मिनट में क्लियर होगा Corona मरीजों का Cashless Claim, Delhi HC ने बिना कंपनियों को दिए ये निर्देश

मैक्स अस्पताल ने कहा कि हमारे तीनों अस्पताल के पास 6 घंटे से कम का ऑक्सीजन बचा है. ऑक्सीजन प्लांट के लिए हम फ्रांस से मशीनें मंगवा रहे है. इस पर हाई कोर्ट ने कहा कि सभी बड़े अस्पताल के पास अपना ऑक्सीजन प्लांट होना ही चाहिए. इसे अनिवार्य तौर पर लागू किया जाना चाहिए. अगर सभी बड़े अस्पतालों के पास ऑक्सीजन (Oxygen) प्लांट होते तो दूसरों पर निर्भर नही होना पड़ता.

‘समन्वय के लिए व्हाट्सएप ग्रुप बन सकता है’

हाई कोर्ट (Delhi High Court) ने कहा कि अस्पताल और ऑक्सीजन (Oxygen) सप्लाई कंपनियों के बीच समन्वय के लिए एक व्हाट्सअप ग्रुप बनाया जा सकता है. जिसमें सारी जानकारी साझा हो जाए. इससे दिल्ली में ऑक्सीजन को लेकर को-ऑर्डिनेशन की दिक्कत भी दूर हो जाएगी.

LIVE TV

Source link