Tech & Travel

Follow for more updates

CT Score of Chest scan and RT PCR difference Know CT Score For COVID positive

नई दिल्ली: 2019 के अंत में चीन के वहुान से शुरू हुई COVID-19 महामारी अब भी दुनिया में तबाही मचा रही है. एक वर्ष से अधिक समय बीत जाने के बाद भी वायरस से जुड़ीं तमाम रिसर्च अभी तक किसी ठोस निष्कर्ष पर नहीं पहुंच सकी हैं. इस दौरान ‘ग्राउंड-ग्लास-इफेक्ट चेस्ट एक्स-रे’, mRNA वैक्सीन, RT-PCR टेस्ट और CT Value आदि के बारे में जरूर सुना होगा. 

क्या है CT Score?

अब अक्सर ‘CT Score’ या ‘CT Value’ शब्द भी सुनने को मिल रहा है. दूसरी लहर में लगातार कोरोना अपना स्वरूप बदल कर RT-PCR Test समेत एंटीजन व ट्रूनेट टेस्ट को भी चकमा दे रहा है. कई मामले ऐसे सामने आए जिनमें आरटीपीसीआर से लेकर अन्य कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आ रही हैं लेकिन मरीज का ऑक्सीजन स्तर गिरने से लेकर कोरोना के अन्य सभी लक्षण हैं. ऐसे मरीजों का चेस्ट सीटी स्कैन कराने से ‘CT Score’ या ‘CT Value’ पता चल पा रही है, जिसके आधार पर तुरंत इलाज किया जा रहा है. CT Score यदि पांच से अधिक है तो कोविड पॉजिटिव मानकर ही उन्हें इलाज दिया जा रहा है.

HRCT की जरूरत क्यों? 

जानकारों के मुताबिक जिन मरीजों के फेफड़ों में भी कोविड जैसा ही संक्रमण है, ऐसे मरीजों में हाई रिजोल्यूशन सीटी स्कैन (HRCT) किया जाना चाहिए. चेस्ट सीटी स्कैन सीवियरिटी स्कोर कोरेड्स (कोविड-19 रिपोर्ट एंड डेटा एनालिसिस सिस्टम) यदि 5 से ज्यादा है तो उसे कोविड-19 मानकर चलना चाहिए और उसी प्रोटोकॉल के तहत ऐसे मरीजों को कोविड पॉजिटिव से अलग रखकर इलाज किया जाना चाहिए.  

क्या है चेस्ट सीटी स्कैन सीवियरिटी स्कोर?

चेस्ट सीटी स्कैन सीवियारिटी स्कोर से मरीजों में Covid-19 से फेफड़ों में होने वाले संक्रमण की स्थिति का पता चलता है. यदि किसी मरीज का चेस्ट सीटी स्कैन सीवियरिटी (कोरेड्स) स्कोर पांच से कम है तो इसका मतलब है उसके फेफड़े ठीक काम कर रहे हैं. Covid pneumonia होने पर यह स्कोर पांच से ऊपर चला जाता है. फेफड़ों में घातक संक्रमण है तो चेस्ट सीटी स्कैन सीवियारिटी स्कोर 25 तक भी पहुंच सकता है. ऐसी स्थिति में मरीज की जान खतरे में होती है.

यह भी पढ़ें: दिल्ली: हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की कमी से 8 कोरोना मरीजों की मौत

कैसे अलग है RT-PCR test? 

जबकि RT-PCR test संदिग्थ COVID-19 मरीज का Naso-Laryngeal swabs लेने के बाद हुए परीक्षण पर आधारित होता है. चेस्ट स्कैन का सीटी स्कोर, आरटी-पीसीआर टेस्ट के सीटी स्कोर से अलग है. RT-PCR में CT value एक नमूने के चक्रों की संख्या के संकेत देता है जिससे दिए गए सेटिंग्स के तहत वायरल डीएनए को ट्रेस करने योग्य स्तर तक लाया जा सके. इस टेस्ट का सीटी काउंट आपके शरीर में मौजूद वायरल लोड को निर्धारित करने में भी मदद करता है. कम सीटी काउंट, उच्च वायरल लोड है. दूसरे शब्दों में, CT Value जितना अधिक होगा, उतना ही कम वायरल लोड शरीर में होना कहा जाता है.

संक्रमित होने पर भी नेगेटिव क्यों आ रही रिपोर्ट 

COVID रोगियों में चेस्ट स्कैन के जरिए भी सीटी काउंट पता लगाया जा रहा है. जिन लोगों की RT-PCR रिपोर्ट नेगेटिव आई हो उसका प्रमुख कारण नाक और गले के नमूनों में अपर्याप्त वायरल लोड होनो हो सकता है. लेकिन मरीज में कोरोना के लक्षण पूरे हों तो उनके संक्रमण की स्थिति Chest scans से स्पष्ट रूप से पता लागई जा सकती है. Chest Scane से फेफड़ों और छाती में वायरल लोड की मौजूदगी स्थिति पता लगई जा सकती है. Chest Scan में CT value, RT-PCR रिपोर्ट की CT Value की तुलना में अलग हो सकती हैं. चेस्ट स्कैन में सीटी वैल्यू जितनी अधिक होती है, संक्रमण की गंभीरता उतनी ही अधिक होती है. इसे CT स्कोर के रूप में भी जाना जाता है. यूएस लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन द्वारा प्रकाशित एक पेपर के अनुसार, यह बताया गया है कि COVID-19 संक्रमण के लिए लगभग रिवर्स ट्रांसक्रिपटेस-पोलीमरेज चेन रिएक्शन (RT_PCR) टेस्ट संवेदनशीलता लगभग 50-62% है तो संतोषजनक परिणाम है.

LIVE TV

Source link