Tech & Travel

Follow for more updates

Coronavirus Vaccine Update Russia Approves Single Dose Sputnik Light Covid Vaccine For Use – स्पुतनिक लाइट: आ गई कोरोना की सिंगल डोज वैक्सीन, रूस ने इस्तेमाल की दी मंजूरी

हेल्थ डेस्क, अमर उजाला, मॉस्को
Published by: सोनू शर्मा
Updated Thu, 06 May 2021 06:47 PM IST

सिंगल डोज कोरोना वैक्सीन
– फोटो : iStock

ख़बर सुनें

रूस ने एक बार फिर दुनिया को यह दिखा दिया है कि वह कोरोना की वैक्सीन बनाने के मामले में किसी से कम नहीं है। उसने एक खुराक वाली वैक्सीन (सिंगल डोज वैक्सीन) ‘स्पुतनिक लाइट’ को इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी है। यह जानकारी रूस के स्वास्थ्य अधिकारियों ने गुरुवार को दी। इस वैक्सीन को बनाने के लिए रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआईएफ) की ओर से वित्तीय सहायता दी गई है।

आरडीआईएफ ने एक बयान में कहा कि स्पुतनिक लाइट ने दो खुराक वाली स्पूतनिक-वी, जिसका प्रभावकारिता 91.6 फीसदी है, की तुलना में 79.4 फीसदी प्रभावकारिता का प्रदर्शन किया है। माना जा रहा है कि इस वैक्सीन के लाइट वर्जन से टीकाकरण को गति मिलेगी और यह महामारी को फैलने से रोकने में मदद करेगा। आरडीआईएफ ने बताया कि इस एक खुराक वाले टीके की कीमत 10 डॉलर यानी करीब 737 रुपये से भी कम है। 
 

स्पुतनिक-वी की इस लाइट वर्जन कोरोना वैक्सीन को भी मॉस्को के गमलेया रिसर्च इंस्टीट्यूट ने तैयार किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, रूस की दो खुराक वाली स्पुतनिक-वी को अब तक 60 से भी अधिक देश इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे चुके हैं। इसमें भारत भी शामिल है। वैक्सीन की पहली खेप भारत पहुंच भी चुकी है। बीते शनिवार को ही रूसी विमान वैक्सीन की डेढ़ लाख खुराक लेकर हैदराबाद पहुंचा था। माना जा रहा है कि इस वैक्सीन से आ जाने से अब भारत में भी टीकाकरण अभियान में तेजी आएगी। 

विस्तार

रूस ने एक बार फिर दुनिया को यह दिखा दिया है कि वह कोरोना की वैक्सीन बनाने के मामले में किसी से कम नहीं है। उसने एक खुराक वाली वैक्सीन (सिंगल डोज वैक्सीन) ‘स्पुतनिक लाइट’ को इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी है। यह जानकारी रूस के स्वास्थ्य अधिकारियों ने गुरुवार को दी। इस वैक्सीन को बनाने के लिए रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआईएफ) की ओर से वित्तीय सहायता दी गई है।

आरडीआईएफ ने एक बयान में कहा कि स्पुतनिक लाइट ने दो खुराक वाली स्पूतनिक-वी, जिसका प्रभावकारिता 91.6 फीसदी है, की तुलना में 79.4 फीसदी प्रभावकारिता का प्रदर्शन किया है। माना जा रहा है कि इस वैक्सीन के लाइट वर्जन से टीकाकरण को गति मिलेगी और यह महामारी को फैलने से रोकने में मदद करेगा। आरडीआईएफ ने बताया कि इस एक खुराक वाले टीके की कीमत 10 डॉलर यानी करीब 737 रुपये से भी कम है। 

 

स्पुतनिक-वी की इस लाइट वर्जन कोरोना वैक्सीन को भी मॉस्को के गमलेया रिसर्च इंस्टीट्यूट ने तैयार किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, रूस की दो खुराक वाली स्पुतनिक-वी को अब तक 60 से भी अधिक देश इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे चुके हैं। इसमें भारत भी शामिल है। वैक्सीन की पहली खेप भारत पहुंच भी चुकी है। बीते शनिवार को ही रूसी विमान वैक्सीन की डेढ़ लाख खुराक लेकर हैदराबाद पहुंचा था। माना जा रहा है कि इस वैक्सीन से आ जाने से अब भारत में भी टीकाकरण अभियान में तेजी आएगी। 

Source link