Tech & Travel

Follow for more updates

Cm Yogi Adityanath Visit Varanasi: Cm Yogi Said Up Government Strongly Fighting Pandemic – वाराणसी में सीएम योगी: बोले- महामारी की मजबूती से मुकाबला कर रही सरकार, संसाधनों की कमी नहीं

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, वाराणसी
Published by: गीतार्जुन गौतम
Updated Sun, 09 May 2021 05:47 PM IST

सार

वाराणसी में कोरोना संक्रमण की समीक्षा करने पहुंचे थे मुख्यमंत्री।
बीएचयू में बोले मुख्यमंत्री- प्रदेश में आठ दिन में कम हुए 77 हजार एक्टिव केस, वाराणसी में भी आशातीत परिणाम।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मीडिया को संबोधित किया।
– फोटो : अमर उजाला।

ख़बर सुनें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को वाराणसी में कोरोना वायरस के संक्रमण की स्थिति का जायजा लेने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने बीएचयू में डीआरडीओ द्वारा बनाए गए 750 बेड के अस्पताल का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि सरकार कोरोना महामारी का हर स्तर पर मुकाबला कर रही है। प्रदेश में कोरोना के एक्टिव केस में तेजी से कमी आ रही है। जहां रिकवरी रेट में सुधार हो रहा है। वहीं, संक्रमण में भी कमी आती जा रही है।

आठ दिन में ही प्रदेश में 77 हजार एक्टिव मरीज कम हुए हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीएचयू में डीआरडीओ की मदद से बनकर तैयार 750 बेड के कोविड अस्पताल का निरीक्षण, मंडलीय समीक्षा बैठक के बाद मीडिया से बात की। उन्होंने कहा कि 30 अप्रैल को प्रदेश में कुल 3.10 लाख एक्टिव केस थे और आठ मई को घटकर 2.33 लाख आ गए। इस तरह 8 दिन में ही 77 हजार संख्या घट गई।

सीएम ने कहा कि प्रदेश में 24 अप्रैल को एक दिन में सबसे ज्यादा 38 हजार केस आए जो अब कम होकर 23 हजार आ गया है। न केवल बनारस मंडल बल्कि बनारस जिले में भी कोरोना नियंत्रण के आशातीत परिणाम आए हैं। उन्होंने बताया कि यहां भी 1 सप्ताह में संक्रमण दर कम हुआ है और रिकवरी रेट में भी ज्यादा बढ़ोतरी हुई है। बनारस मंडल में 9285 केस कम हुए हैं जिसमें सबसे ज्यादा 4500 से अधिक बनारस जिले में ही है।

ऑक्सीजन एक्सप्रेस, एयरफोर्स बना मददगार
मुख्यमंत्री ने कहा कि पहली वेब की तुलना में दूसरी वेब अधिक तेज है। इसमें तेजी से संक्रमण फैलने से लोगों में भय भी हो गया था। उधर अस्पतालों में ऑक्सीजन की डिमांड और बेड की डिमांड भी तेजी से बढ़ी। बेड बढ़ाए जाने के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयास से न केवल ऑक्सीजन एक्सप्रेस बल्कि एयर फोर्स की मदद से एयरफोर्स के विमानों का भी उपयोग किया गया। मेडिकल कॉलेज में भी खुद के संसाधनों का भी प्रयोग किया गया, जिसकी वजह से ऑक्सीजन की किल्लत को दूर किया गया। यूपी के अलग-अलग क्षेत्रों में एक हजार मैट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है।

टीकाकरण के लिए आगे आने की जरूरत
मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार महामारी का मुकाबला मजबूती से कर रही है। इसके लिए हर स्तर पर संसाधन भी बढ़ाए जा रहे हैं। टीकाकरण पर जोर देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि दो स्वदेशी वैक्सीन अभी फिलहाल लग रही है और तीसरी वैक्सीन के लिए भी सहमति मिल गई है। यूपी में 45 से अधिक उम्र के 1.37 करोड़ को वैक्सीन दी जा चुकी है जबकि 18 से अधिक उम्र वाले भी एक लाख से अधिक लोग टीका लगवा चुके है। उन्होंने बताया कि सभी को टिके के लिए आगे आना चाहिए। आसानी से टीकाकरण किया जा सके इसके लिए 4500 अधिक केंद्र भी टीकाकरण के बनाए गए हैं।

अस्थायी अस्पताल से होगी बड़ी राहत
मुख्यमंत्री ने बताया कि 750 बेड के डीआरडीओ की मदद से बनाये गए अस्थायी अस्पताल से वाराणसी के साथ ही आसपास के जिलों के लोगो को बड़ी राहत होगी। यहां आर्मी मेडिकल कोर के साथ ही बीएचयू, स्वास्थ्य विभाग की ओर से भी स्वास्थ्यकर्मियों के अलावा अन्य संसाधनों को समन्वय स्थापित कर मुहैया कराया जाएगा।

विस्तार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को वाराणसी में कोरोना वायरस के संक्रमण की स्थिति का जायजा लेने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने बीएचयू में डीआरडीओ द्वारा बनाए गए 750 बेड के अस्पताल का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि सरकार कोरोना महामारी का हर स्तर पर मुकाबला कर रही है। प्रदेश में कोरोना के एक्टिव केस में तेजी से कमी आ रही है। जहां रिकवरी रेट में सुधार हो रहा है। वहीं, संक्रमण में भी कमी आती जा रही है।

आठ दिन में ही प्रदेश में 77 हजार एक्टिव मरीज कम हुए हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीएचयू में डीआरडीओ की मदद से बनकर तैयार 750 बेड के कोविड अस्पताल का निरीक्षण, मंडलीय समीक्षा बैठक के बाद मीडिया से बात की। उन्होंने कहा कि 30 अप्रैल को प्रदेश में कुल 3.10 लाख एक्टिव केस थे और आठ मई को घटकर 2.33 लाख आ गए। इस तरह 8 दिन में ही 77 हजार संख्या घट गई।

सीएम ने कहा कि प्रदेश में 24 अप्रैल को एक दिन में सबसे ज्यादा 38 हजार केस आए जो अब कम होकर 23 हजार आ गया है। न केवल बनारस मंडल बल्कि बनारस जिले में भी कोरोना नियंत्रण के आशातीत परिणाम आए हैं। उन्होंने बताया कि यहां भी 1 सप्ताह में संक्रमण दर कम हुआ है और रिकवरी रेट में भी ज्यादा बढ़ोतरी हुई है। बनारस मंडल में 9285 केस कम हुए हैं जिसमें सबसे ज्यादा 4500 से अधिक बनारस जिले में ही है।

Source link