Tech & Travel

Follow for more updates

close fight between bjp and tmc in these 7 seats while west bengal election, victory margin below 1000 | West Bengal: इन 7 सीटों पर BJP और TMC के बीच कांटे का मुकाबला, 1000 से कम रहा जीत-हार का अंतर

कोलकाता: पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Election 2021) में टीएमसी ने एक बार फिर प्रचंड बहुमत से दोहरा शतक लगाते हुए तीसरी बार सत्ता में आई है. बीजेपी इस बार भले ही अपने निर्धारित लक्ष्य को हासिल न कर पाई हो लेकिन फिर भी कई सीटों पर बीजेपी (BJP) और टीएमसी (TMC) के बीच कांटे की टक्कर हुई.

कई राउंड की गिनती के बावजूद मानो जीत की घड़ी का पेंडुलम कभी इधर तो कभी उधर घूमता रहा जिससे उम्मीदवारों और उनके समर्थकों की बेचैनी घटती-बढ़ती रही. ऐसी कई सीटें रहीं जहां दोनों पार्टी के उम्मीदवारों के बीच जीत-हार का अंतर काफी कम रहा. आइए बताते हैं.

7 सीटों पर करीबी मुकाबला

सात सीटें ऐसी रहीं जहां सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी के बीच कांटे का मुकाबला हुआ और जीत-हार का अंतर एक हजार से कम मतों का रहा. इनमें एक सीट तो ऐसी रही जहां 57 मतों से जीत-हार का फैसला हुआ. चार राज्यों और 1 केंद्र शासित पुडुचेरी में हुए विधानसभा चुनाव के मतगणना के दौरान कांटे के मुकाबले के लिए सबसे अधिक चर्चा में पश्चिम बंगाल का नंदीग्राम रहा जहां मुकाबला ममता बनर्जी और उनके पूर्व सिपहसालार शुभेंदु अधिकारी के बीच था.

ये भी पढ़ें- Assembly Elections 2021: नतीजों के बाद किस राज्य में कब बनेगी सरकार, ऐसी है नेताओं की तैयारी

इस सीट पर अधिकारी ने ममता को 1,956 मतों से पराजित किया लेकिन इससे भी कड़ा मुकाबला दिनहाटा, बलरामपुर, दंतन, कुल्टी, तमलुक, जलपाईगुड़ी और घाटाल में रहा जहां जीत-हार का अंतर 57 से लेकर 966 मतों का रहा.

दिनहाटा में 57 वोट से हारी TMC

सबसे कड़ा और नजदीकी मुकाबला कूचबिहार के दिनहाटा विधानसभा क्षेत्र में हुआ जहां मुकाबला बीजेपी के सांसद निषिथ प्रमाणिक और तृणमूल कांग्रेस के उदयन गुहा के बीच था. इस मुकाबले में बाजी पारामाणिक के हाथ लगी. उन्होंने गुहा को 57 मतों के अंतर से पराजित किया.

इस मुकाबले में पारामाणिक को 1,16,035 मत मिले जबकि गुहा को 1,15,978 मत मिले. पारामाणिक पहले तृणमूल कांग्रेस में थे लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले वह बीजेपी में शामिल हो गए थे और उन्होंने कूचबिहार से लोकसभा का चुनाव भी जीता.

दिनहाटा के बाद पुरुलिया जिले के बलरामपुर में बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवारों के बीच कांटे का मुकाबला देखने को मिला. इस विधानसभा सीट पर बीजेपी के बनेश्वर महतो ने तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार व निवर्तमान विधायक शांतिराम महतो को 423 मतों से पराजित किया. बनेश्वर महतो को 89,521 मत मिले जबकि शांतिराम महतो को 89,098 मत मिले.

ये भी पढ़ें- बंगाल के नतीजों पर शिवसेना बोली- मोदी-शाह अजेय नहीं, सिब्बल ने बताया घमंड की हार

यहां जीत-हार का अंतर 700 से नीचे

इसी तरह एक और करीही मुकाबला पश्चिम मेदिनीपुर जिले के दंतन विधानसभा सीट पर देखने को मुकाबला. यहां तृणमूल कांग्रेस के बिक्रम चंद्र प्रधान ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी बीजेपी के शक्तिपद नायक को 623 मतों से पराजित किया. प्रधान को 95,209 मत मिले जबकि नायक को 94,586 मत मिले.

पश्चिम बर्द्धमान जिले की कुल्टी सीट पर जीत-हार का अंतर 679 मतों का रहा. यहां बीजेपी के अजय कुमार पोद्दार ने तृणमूल कांग्रेस के उज्जल चटर्जी को पराजित किया. पोद्दार को कुल 81,112 मत मिले जबकि चटर्जी को 80,433 मत मिले.

इससे थोड़ा और मार्जिन की बात करें तो पूर्वी मेदिनीपुर जिले के तमलुक विधानसभा सीट पर भी बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस के कड़ी टक्कर देखने को मिली लेकिन बाजी अंतत: तृणमूल कांग्रेस के सौमेन महापात्रा के हाथ लगी. उन्होंने बीजेपी के उम्मीदवार हरेकृष्ण बेरा को 793 मतों से पराजित किया. महापात्रा को 1,08,243 मत मिले जबकि बेरा को 1,07,450 मत मिले.

ये भी पढ़ें- HC के खिलाफ Election Commission की याचिका पर SC ने कहा, ‘हम उच्च न्यायालयों की प्रतिष्ठा कम नहीं कर सकते

यहां भी दिलचस्प मुकाबला

जलपाईगुड़ी विधानसभा सीट पर भी मुकाबला नजदीकी रहा. यहां तृणमूल कांग्रेस के प्रदीप कुमार बर्मा ने बीजेपी के सौजीत सिंह को 941 मतों के अंतर से हराया. बर्मा को 95,668 मत मिले जबकि सिंह को 94,727 मत मिले.

ऐसा ही मुकाबला पश्चिमी मेदिनीपुर जिले के घाटाल सीट पर देखने को मिला. यहां बीजेपी के सीतल कपट को 966 मतों से जीत मिली. उन्होंने तृणमूल कांग्रेस को शंकर दोलाई को पराजित किया. उन्हें 1,04,846 मत मिले जबकि कपट 1,05, 812 मत लेकर विजयी हुए.

LIVE TV

 

Source link