Tech & Travel

Follow for more updates

Captain Amarinder Singh Announced To Help 10 Year Old Vansh Who Sold Socks On Road In Punjab – पंजाब: सड़क पर जुराब बेचते दस साल के वंश का वीडियो वायरल, मदद के लिए कैप्टन ने खुद की कॉल 

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़
Published by: पंचकुला ब्‍यूरो
Updated Sat, 08 May 2021 12:34 AM IST

सार

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने वंश सिंह की हालत को देखते हुए शुक्रवार को राज्य सरकार द्वारा उसकी शिक्षा का सारा खर्च उठाने के अलावा उसके परिवार को 2 लाख रुपये की तत्काल सहायता देने का एलान किया।
 

वंश से बात करते पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह।
– फोटो : @capt_amarinder

ख़बर सुनें

लुधियाना की सड़कों पर जुराबें बेचने वाले दस साल के मासूम वंश की मदद के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हाथ बढ़ाया है। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने वंश सिंह की हालत को देखते हुए शुक्रवार को राज्य सरकार द्वारा उसकी शिक्षा का सारा खर्च उठाने के अलावा उसके परिवार को 2 लाख रुपये की तत्काल सहायता देने का एलान किया। दरअसल, अपने परिवार की मदद के लिए लुधियाना की सड़कों पर जुराबें बेचने वाले वंश सिंह का एक वीडियो वायरल हुआ था। इसके बाद मुख्यमंत्री ने मदद का एलान किया।

मुख्यमंत्री ने लुधियाना के डिप्टी कमिश्नर को आदेश दिए कि स्कूल छोड़ चुके वंश को फिर से स्कूल भेजा जाए। उसकी पढ़ाई का सारा खर्च राज्य सरकार उठाएगी। वंश ने एक कार चालक से जुराबों की कीमत से 50 रुपये ज्यादा देने की पेशकश से इनकार कर दिया था। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। 

वीडियो देखने के बाद कैप्टन ने वंश और उसके परिवार के साथ वीडियो कॉल के जरिए बातचीत की और कहा कि वंश के स्वाभिमान ने उनको प्रभावित किया है। वंश के वीडियो को सोशल मीडिया पर लाखों लोगों ने देखा और लोग इसकी ईमानदारी और स्वाभिमान की प्रशंसा कर रहे हैं। वंश के पिता परमजीत भी जुराबें बेचते हैं जबकि उसकी माता रानी गृहणी है। वंश की तीन बहनें और एक बड़ा भाई है और परिवार हैबोवाल इलाके में किराए के मकान में रहता है।

विस्तार

लुधियाना की सड़कों पर जुराबें बेचने वाले दस साल के मासूम वंश की मदद के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हाथ बढ़ाया है। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने वंश सिंह की हालत को देखते हुए शुक्रवार को राज्य सरकार द्वारा उसकी शिक्षा का सारा खर्च उठाने के अलावा उसके परिवार को 2 लाख रुपये की तत्काल सहायता देने का एलान किया। दरअसल, अपने परिवार की मदद के लिए लुधियाना की सड़कों पर जुराबें बेचने वाले वंश सिंह का एक वीडियो वायरल हुआ था। इसके बाद मुख्यमंत्री ने मदद का एलान किया।

मुख्यमंत्री ने लुधियाना के डिप्टी कमिश्नर को आदेश दिए कि स्कूल छोड़ चुके वंश को फिर से स्कूल भेजा जाए। उसकी पढ़ाई का सारा खर्च राज्य सरकार उठाएगी। वंश ने एक कार चालक से जुराबों की कीमत से 50 रुपये ज्यादा देने की पेशकश से इनकार कर दिया था। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। 

वीडियो देखने के बाद कैप्टन ने वंश और उसके परिवार के साथ वीडियो कॉल के जरिए बातचीत की और कहा कि वंश के स्वाभिमान ने उनको प्रभावित किया है। वंश के वीडियो को सोशल मीडिया पर लाखों लोगों ने देखा और लोग इसकी ईमानदारी और स्वाभिमान की प्रशंसा कर रहे हैं। वंश के पिता परमजीत भी जुराबें बेचते हैं जबकि उसकी माता रानी गृहणी है। वंश की तीन बहनें और एक बड़ा भाई है और परिवार हैबोवाल इलाके में किराए के मकान में रहता है।

Source link