Tech & Travel

Follow for more updates

Bhupesh Baghel Write A Letter To Pm Narendra Modi: Socially And Economically Weaker Sections Get Top Priority In Vaccination – टीकाकरण: भूपेश बघेल की पीएम से मांग- सामाजिक-आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को मिले प्राथमिकता

पीटीआई, रायपुर
Published by: Kuldeep Singh
Updated Sat, 01 May 2021 12:21 AM IST

सार

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को टीकाकरण में सर्वोच्च प्राथमिकता देने की मांग की है।

ख़बर सुनें

राज्य के जनसंपर्क विभाग के अधिकारियों ने शुक्रवार को यहां बताया कि मुख्यमंत्री बघेल ने पत्र में उल्लेख किया है कि भारत सरकार के दिशा निर्देशानुसार 28 अप्रैल से कोविन पोर्टल पर कोविड-19 टीकाकरण के लिए 18 से 44 वर्ष के आयु वर्ग के लाभार्थियों का पंजीकरण प्रारम्भ हो चुका है।

हालांकि, यह जानकारी पोर्टल पर राज्यवार उपलब्ध नहीं है पर प्राप्त जानकारी अनुसार अब तक देश भर में इस आयु वर्ग के लगभग 1.7 करोड़ नागरिक टीका के लिए अपना पंजीकरण करवा चुके हैं।

बघेल ने पत्र में कहा है कि भारत सरकार के दिशा निर्देश के अनुसार इस आयु वर्ग के टीकाकरण के लिए टीके की खुराक का क्रय राज्यों द्वारा ही किया जाना है। इसी तारतम्य में राज्य द्वारा टीके के दोनों उत्पादकों को कोविशील्ड और कोवैक्सीन की 25-25 लाख खुराक की मांग प्रेषित की गई है।

उन्होंने बताया कि इनमें से एक उत्पादक (भारत बायोटेक) का ही उत्तर प्राप्त हुआ है जिसके अनुसार वांछित मात्रा में से मात्र तीन लाख खुराक मई माह में राज्य को प्राप्त होगी। ऐसी परिस्थिति में बड़ी संख्या में पंजीकरण होने से और उस अनुपात में टीके की खुराक उपलब्ध नहीं होने से टीकाकरण के लिए बनी वेबसाइट पर भीड़ प्रबंधन में समस्याएं उत्पन्न हो सकती है।

मुख्यमंत्री ने पत्र में उल्लेख किया है कि ऐसी परिस्थिति में टीके की कमी को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार द्वारा टीकाकरण के लिए इस आयु वर्ग में प्राथमिकता का कोई क्रम निर्धारित किया जाना चाहिए और इस क्रम में सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में पंजीकरण की व्यवस्था केवल ऑनलाइन ही उपलब्ध होने से भी सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग की टीकाकरण से वंचित रहने की संभावना बढ़ जाती है।

अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री बघेल ने पत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया है कि पूर्व की भांति 18- 44 वर्ष के आयु वर्ग के लिए भी टीकाकरण केंद्र में भी पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध हो जिससे टीकाकरण से कोई भी वंचित न रह पाए।

विस्तार

राज्य के जनसंपर्क विभाग के अधिकारियों ने शुक्रवार को यहां बताया कि मुख्यमंत्री बघेल ने पत्र में उल्लेख किया है कि भारत सरकार के दिशा निर्देशानुसार 28 अप्रैल से कोविन पोर्टल पर कोविड-19 टीकाकरण के लिए 18 से 44 वर्ष के आयु वर्ग के लाभार्थियों का पंजीकरण प्रारम्भ हो चुका है।

हालांकि, यह जानकारी पोर्टल पर राज्यवार उपलब्ध नहीं है पर प्राप्त जानकारी अनुसार अब तक देश भर में इस आयु वर्ग के लगभग 1.7 करोड़ नागरिक टीका के लिए अपना पंजीकरण करवा चुके हैं।

बघेल ने पत्र में कहा है कि भारत सरकार के दिशा निर्देश के अनुसार इस आयु वर्ग के टीकाकरण के लिए टीके की खुराक का क्रय राज्यों द्वारा ही किया जाना है। इसी तारतम्य में राज्य द्वारा टीके के दोनों उत्पादकों को कोविशील्ड और कोवैक्सीन की 25-25 लाख खुराक की मांग प्रेषित की गई है।

उन्होंने बताया कि इनमें से एक उत्पादक (भारत बायोटेक) का ही उत्तर प्राप्त हुआ है जिसके अनुसार वांछित मात्रा में से मात्र तीन लाख खुराक मई माह में राज्य को प्राप्त होगी। ऐसी परिस्थिति में बड़ी संख्या में पंजीकरण होने से और उस अनुपात में टीके की खुराक उपलब्ध नहीं होने से टीकाकरण के लिए बनी वेबसाइट पर भीड़ प्रबंधन में समस्याएं उत्पन्न हो सकती है।

मुख्यमंत्री ने पत्र में उल्लेख किया है कि ऐसी परिस्थिति में टीके की कमी को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार द्वारा टीकाकरण के लिए इस आयु वर्ग में प्राथमिकता का कोई क्रम निर्धारित किया जाना चाहिए और इस क्रम में सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में पंजीकरण की व्यवस्था केवल ऑनलाइन ही उपलब्ध होने से भी सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग की टीकाकरण से वंचित रहने की संभावना बढ़ जाती है।

अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री बघेल ने पत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया है कि पूर्व की भांति 18- 44 वर्ष के आयु वर्ग के लिए भी टीकाकरण केंद्र में भी पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध हो जिससे टीकाकरण से कोई भी वंचित न रह पाए।

Source link