Tech & Travel

Follow for more updates

Aaj Ka Shabd Vibhuti Mahadevi Verma Poem Is Path Se Aana – आज का शब्द: विभूति और महादेवी वर्मा की कविता… इस पथ से आना!

                
                                                             
                            'विभूति' को कई अर्थों में प्रयुक्त किया जाता है, जैसे- वैभव, ऐश्वर्य या धन, संपत्ति, या दिव्य अलौकिक शक्ति से संपन्न गुणवान पुरुष। अमर उजाला हिंदी हैं हम शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- विभूति। प्रस्तुत है महादेवी वर्मा की कविता: इस पथ से आना !
                                                                     
                            

तुम दुख बन इस पथ से आना ! 

शूलों में नित मृदु पाटल-सा; 
खिलने देना मेरा जीवन; 

क्या हार बनेगा वह जिसने 
सीखा न हृदय को बिंधवाना! 

वह सौरभ हूँ मैं जो उड़कर 
कलिका में लौट नहीं पाता, 

पर कलिका के नाते ही प्रिय 
जिसको जग ने सौरभ जाना! 

नित जलता रहने दो तिल तिल, 
अपनी ज्वाला में उर मेरा; 

इसकी विभूति में फिर आकर 
अपने पद-चिह्न बना जाना !

आगे पढ़ें

11 minutes ago

Source link